शनिवार, 1 अगस्त 2015

अरुणोदय की लाली


भोर भई
भया उजियारा
सोने लौट गया हर तारा,
चहक उठी चिड़िया हर डाली
बिखरी अरुणोदय की लाली.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें