सोमवार, 4 अप्रैल 2011

रास


कर रहे रास सरिता-समीर
इस चंदा की परछाँई में,
मीन भर रही रंग अनेकों
रात की इस तनहाई में।
तारों की झिलमिल-झिलमिल से
हो रहा है जग,जगमग-जगमग,
ढूंढे जाते राज़ अनेकों
जुगनू
की परछाँई में।
अनिल-नीर अठखेली करते,
प्रीति जताते,आँहें भरते,
पल पल में आमंत्रण करते,
एक दूजे के होते हर पल,
..रास सिखाते इस दुनिया को,
गीत सुनते इस दुनिया को,
झींगुर की बिखरी सी लय पर
नृत्य दिखाते इस दुनिया को।
सो रहे पेड़ की पत्ती भी
वो भाव देख कर झूम रही,
और बतलाती,धीरे से फल से,
देखो....धरती घूम रही।

6 टिप्‍पणियां:

  1. Pal-pal mian.....ek duje ke hote har pal...achhe sabdon ka chayan...badhai.....


    Saath main ek gujarish hai ki kripya verification ka jhanjhut hta de.jita hm log socthe hi utna laabh hai nahi .....meri aur se gujarish hai jaruri bat nahi.

    {Dashbord se settings main jaye fir settings se comment main aur sabce niche show word verifcation mian 'nahi' chun le..bus..}

    उत्तर देंहटाएं
  2. sona jitna tapega utna hi nikhar aata jayega,kavita bhi usi tarah se nikharti jayegi. kafi achchha laga. dil ko sukoon dene wali kavita ke liye badhaie......vijai dixit

    उत्तर देंहटाएं
  3. sona jitna tapta hai utna hi nikhar aata jata hai,usi tarah se aapki kavita bhi nikharti jayegi. kafi achchhi hai. dil ko sukoon dene wali kavita ke liye badhaie......vijai kumar dixit

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति के मानवीकरण का सुन्दर प्रयोग..साधुवाद शरद भाई....

    उत्तर देंहटाएं