बुधवार, 3 नवंबर 2010

तृष्णा


रस-भर- घट ले निकल पड़ी,
छलकाती पग-पग,ठहर-ठहर,
हर बूंद बढ़ाती है तृष्णा,
जीवन के हर एक पहर।

2 टिप्‍पणियां:

  1. priy sharad ji kis ras ke bare men likha hai. waise chitara sanyojan bahut hi barhia hai. badhai. vijay dixit

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या सचमुच मटकी में रस भरा है...??? रचना अच्छी बन पड़ी है... बधाई!

    उत्तर देंहटाएं